Dil se Singer

ऑडियो: क्वारंटीन (राजिंदर सिंह बेदी)

इस साप्ताहिक स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको हिन्दी में मौलिक और अनूदित, नई और पुरानी, प्रसिद्ध कहानियाँ और छिपी हुई रोचक खोजें सुनवाते रहे हैं। पिछली बार आपने दीपक शर्मा की कथा “ऊँट की पीठ” का पाठ अनुराग शर्मा के स्वर में सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, उर्दू के प्रसिद्ध साहित्यकार, निर्माता, निर्देशक, संवाद व पटकथा लेखक राजिंदर सिंह बेदी की कथा क्वारंटीन जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी “क्वारंटीन” का कुल प्रसारण समय 24 मिनट 36 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

इस कहानी का गद्य सेतु पत्रिका पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


राजिंदर सिंह बेदी (1सितम्बर 1915 – 11 नवम्बर 1984); उर्दू के प्रसिद्ध साहित्यकार, फ़िल्म निर्माता, निर्देशक, संवाद व पटकथा लेखक


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


नगर में जितनी मृत्यु क्वारंटीन से हुईं, उतनी प्लेग से न हुईं।
(राजिंदर सिंह बेदी रचित “क्वारंटीन” से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
क्वारंटीन MP3


#Eleventh Story, Quarantine: Rajinder Singh Bedi / Hindi Audio Book / 2020/11. Voice: Anurag Sharma

Related posts

२७ अप्रैल- आज का गाना

Amit

शब्दों में संसार – हरा सोना

Sajeev

“नीले गगन के तले धरती का प्यार पले” – कैसे न बनती साहिर और रवि की सुरीली जोड़ी जब दोनों की राशी एक है!!

PLAYBACK

3 comments

Anita May 12, 2020 at 6:32 am

मार्मिक कहानी, अतीत के माध्यम से आज के हालात की सच्चाई से भी रूबरू कराती हुई

Reply
Vimal Joshi May 18, 2020 at 11:41 am

aaj ke sandarbh me itni he saamyik. Atyant marmik kahani.vachan karta ko badhaai.

Reply
राजेंद्र गुप्ता Rajendra Gupta May 22, 2020 at 11:23 am

बहुत मार्मिक। कोरोना महामारी के क्वारंटाइन सामयिक। सुनाने के लिए आभार।

Reply

Leave a Comment