Dil se Singer

ऑडियो: मेंढकी (दीपक शर्मा)

इस साप्ताहिक स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको हिन्दी में मौलिक और अनूदित, नई और पुरानी, प्रसिद्ध कहानियाँ और छिपी हुई रोचक खोजें सुनवाते रहे हैं। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की कथा “मोड़” का पाठ उन्हीं के स्वर में सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, हिंदी की प्रसिद्ध साहित्यकार दीपक शर्मा की कथा मेंढकी जिसे स्वर दिया है पूजा अनिल और अनुराग शर्मा ने।

कहानी “मेंढकी” का गद्य अभिव्यक्ति पर उपलब्ध है। इस कथा का कुल प्रसारण समय 12 मिनट 25 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


लखनऊ क्रिश्चियन कॉलेज की अंग्रेज़ी विभागाध्यक्ष रह चुकीं मिताक्षरी लेखिका दीपक शर्मा के कथा-क्षेत्र का विस्तार, संवेदनाओं की गहराई, शिल्प की सहजता और वर्णन की प्रामाणिकता उन्हें अपने समकालीन लेखकों से अलग धरातल प्रदान करते हैंं। उनकी 200 से अधिक कहानियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं जिन्हें 19 कथा-संग्रहों में संकलित किया गया है।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


मेंढकी की छोटी बुद्धि है। ज्यादा सोच-भाल नहीं सकती।
(दीपक शर्मा रचित “मेंढकी” से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
मेंढकी MP3


#Eighth Story, Mendhaki: Deepak Sharma/Hindi Audio Book/2020/08. Voice: Pooja Anil, Anurag Sharma

Related posts

सितम्बर माह के कवि सम्मेलन के लिए अपनी रिकॉर्डिंग भेजें

Amit

अब्बास टायरवाला और रहमान आये साथ एक बार फिर और कहा जवां दिलों से – "कॉल मी दिल…"

Amit

गीत कभी बूढ़े नहीं होते, उनके चेहरों पर कभी झुर्रियाँ नहीं पड़ती…सच ही तो कहा था गुलज़ार साहब ने

Sajeev

2 comments

manu March 13, 2020 at 12:47 am

बहुत अच्छी लगी कहानी । अंत ने भौंचका सा कर दिया । दंभ भी कैसे कैसे हो सकते हैं ।
पूजा जी ने दो किरदारों को अपनी आवाज़ देने मे न्याय किया

Reply
ऋता शेखर 'मधु' March 13, 2020 at 9:33 am

जरा सी अहम ने एक जिंदगी ले ली। कहानी का ताना बाना सुन्दर। दोनो स्पष्ट आवाजों ने कहानी सुनने का आनंद दोगुना कर दिया। सभी को बधाइयाँ।

Reply

Leave a Comment