Dil se Singer

ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ (असगर वजाहत)

लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल के स्वर में गौतम राजर्षि की ‘एक फ़ौजी की डायरी’ का अंश सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, असगर वजाहत की कथा ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

इस कहानी ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ का कुल प्रसारण समय 10 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


रात के वक्त़ रूहें अपने बाल-बच्चों से मिलने आती हैं।
 ~ असगर वजाहत


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


“सरला से मिलने कोई नहीं आया था।”
(असगर वजाहत की कथा “ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ ” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ MP3


#Twenty Fourth Story, Drain Mein Rahne Wali Ladkiyan; Asghar Wajahat; Hindi Audio Book/2019/24. Voice: Sheetal Maheshwari

Related posts

नफ़रत की एक ही ठोकर ने यह क्या से क्या कर डाला…बालकवि बैरागी का रचा, जयदेव का स्वरबद्ध ये अमर गीत

Sajeev

पॉडकास्ट कवि सम्मेलन का दूसरा अंक

Amit

नारी-कण्ठ पर सुशोभित ठुमरी : ‘रस के भरे तोरे नैन…’

कृष्णमोहन

2 comments

Anonymous October 1, 2019 at 11:44 am

Heya! I just wanted to ask if you ever have any problems with
hackers? My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing a
few months of hard work due to no backup. Do you have any solutions to protect against hackers?

Reply
Anonymous October 1, 2019 at 12:44 pm

Write more, thats all I have to say. Literally, it seems
as though you relied on the video to make your point. You clearly
know what youre talking about, why waste your intelligence on just posting videos to
your weblog when you could be giving us something enlightening to read?

Reply

Leave a Comment