Dil se Singer

ऑडियो लघुकथा: सागौन का पेड़ (समीर लाल ‘समीर’)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ ‘बोलती कहानियाँ’ के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में संतोष श्रीवास्तव की कथा ‘बैराग के खाते में‘ का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं समीर लाल ‘समीर’ की लघुकथा ‘सागौन का पेड़’, पूजा अनिल के स्वर में।

लघुकथा “सागौन का पेड़” का कुल प्रसारण समय 4 मिनट 34 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। प्रस्तुत लघुकथा “सागौन का पेड़” का गद्य कला और साहित्य के द्वैभाषिक मासिक सेतु के जून 2017 अंक में उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


रतलाम में जन्मे, और जबलपुर में शिक्षित, भारतीय कैनेडियन लेखक समीर लाल ‘समीर’ का नाम हिंदी जगत में जाना-पहचाना है। एक लोकप्रिय चिट्ठाकार समीर लाल ‘समीर’ व्यवसाय से चार्टर्ड एकाउंटैंट हैं। जबलपुर से प्रकाशित “ज्योतिर्मिलन” मासिक में प्रकाशित कहानी के लिये उन्होंने प्रख्यात व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई के हाथों बाल साहित्यकार का सम्मान प्राप्त किया था।


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी


किसान है बिरजू। तो तय है परेशान तो होगा ही। मरी हुई फसलें और उनके चलते सर पर चढ़े बैंक के लोन का बोझ।
(समीर लाल ‘समीर’ की लघुकथा “सागौन का पेड़” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
सागौन का पेड़ MP3

#Twelfth Story, Sagaun Ka Ped: Sameer Lal Sameer / Hindi Audio Book /2019/12. Voice: Pooja Anil

Related posts

‘सिने पहेली’ में आज गणतंत्र दिवस विशेष

PLAYBACK

राग तिलक कामोद : SWARGOSHTHI – 426 : RAG TILAK KAMOD

कृष्णमोहन

आपकी याद आती रही…."अलाव" में जलते दिल की कराह

Sajeev

2 comments

Udan Tashtari May 22, 2019 at 3:38 am

पूजा ..Pooja Anil तुमने आवाज देकर अमर कर दी यह कहानी…न जाने क्यूँ..परसों ही सोचता था कि इसे मैं सुनाऊँ..मगर अब तो…तुम ही अमर कर गई!! बहुत बहुत आभार!! 🙏🙏👏

Reply
Anonymous May 25, 2019 at 3:46 pm

Great article! This is the type of info that should be shared across the
web. Disgrace on the search engines for no longer positioning this post higher!
Come on over and visit my site . Thank you =)

Reply

Leave a Comment