Dil se Singer

ऑडियो कहानी: रेल यात्रा (शरद जोशी)

‘सुनो कहानी’ स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने कान्ता राॅय लिखित लघुकथा “साइकिल चोर” का पॉडकास्ट शीतल माहेश्वरी के स्वर में सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं शरद जोशी लिखित व्यंग्य “रेल यात्रा“, जिसको स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत व्यंग्य का गद्य “हिन्दी समय” पर उपलब्ध है। “रेल यात्रा” का कुल प्रसारण समय 11 मिनट 16 सेकंड है। सुनिए और बताइये कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


लेखन मेरा निजी उद्देश्य है … मैं इससे बचकर जा भी नहीं सकता।
~ पद्मश्री शरद जोशी (जन्म 21 मई 1931; उज्जैन)


हर शनिवार को आवाज़ पर सुनें एक नयी कहानी


सामान रख दोगे तो बैठोगे कहाँ? बैठ जाओगे तो सामान कहाँ रखोगे? दोनों कर दोगे तो दूसरा कहाँ बैठेगा? वो बैठ गया तो तुम कहाँ खड़े रहोगे? खड़े हो गये तो सामान कहाँ रहेगा?
(शरद जोशी के व्यंग्य “रेल यात्रा” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
रेल यात्रा MP3


#18th Story, Rail Yatra: Sharad Joshi/Hindi Audio Book/2018/18. Voice: Sheetal Maheshwari

Related posts

रविवार सुबह की कॉफी और एक बेहद दुर्लभ अ-प्रकाशित गीत फिल्म मुग़ल-ए-आज़म से (26)…हुस्न की बारात चली

Sajeev

कोई गाता मैं सो जाता….जब हरिवंश राय बच्चन के नाज़ुक बोलों को मिला येसुदास का स्वर

Sajeev

पी की डगर में बैठे मैला हुआ री मेरा आंचरा…

Sajeev

2 comments

Unknown September 5, 2018 at 7:03 pm

very nice. clear hindi pronounciation. keep it up Sheetal.

Reply
अनूप शुक्ल September 25, 2018 at 9:31 am

बहुत खूब। अच्छी रचना का सुंदर पाठ।

Reply

Leave a Comment