Dil se Singer

बोलती कहानियाँ: बेचैनी (लघुकथा)

लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में शरद जोशी के व्यंग्य रेल यात्रा” का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है दीपक मशाल की लघुकथा बेचैनी, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा “बेचैनी” का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 26 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


कुछ बड़े लोगों से मिला था कभी,
तबसे कोई बड़ा नहीं लगता
इतनी बौनी है दुनिया कि कोई,
खड़ा हुआ भी खड़ा नहीं लगता
 ~ दीपक मशाल


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


“हाँ जी पहुँच गये हैं गेट पर।”
 (दीपक मशाल की लघुकथा “बेचैनी” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
बेचैनी MP3


#19th Story, Bechaini; Dipak Mashal; Hindi Audio Book/2018/19. Voice: Sheetal Maheshwari

Related posts

‘मन तड़पत हरिदर्शन को आज…’

कृष्णमोहन

प्रेमचंद की कथा बंद दरवाज़ा

Smart Indian

खमाज थाट के राग : SWARGOSHTHI – 216 : KHAMAJ THAAT

कृष्णमोहन

3 comments

शिवम् मिश्रा September 11, 2018 at 4:43 pm

ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 11/09/2018 की बुलेटिन, स्वामी विवेकानंद के एतिहासिक संबोधन की १२५ वीं वर्षगांठ “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है … सादर आभार !

Reply
Smart Indian September 13, 2018 at 2:41 am

धन्यवाद शिवम्

Reply
Anita September 14, 2018 at 12:00 pm

बहुत सुंदर कहानी..मिठास भरी..

Reply

Leave a Comment