Dil se Singer

आ लड़ाई आ – उपेन्द्रनाथ अश्क

बोलती कहानियाँ स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने पूजा अनिल की आवाज़ में वंदना अवस्थी दुबे की कहानी “डेरा उखड़ने से पहले” का पॉडकास्ट सुना था। आज हम लेकर आये हैं उर्दू और हिंदी प्रसिद्ध के साहित्यकार उपेन्द्रनाथ अश्क की एक सधी हुई कहानी “आ लड़ाई आ, मेरे आंगन में से जा“, जिसको स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 5 मिनट 43 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


उर्दू के सफल लेखक उपेन्द्रनाथ ‘अश्क’ ने मुंशी प्रेमचंद की सलाह पर हिन्दी में लिखना आरम्भ किया। 1933 में प्रकाशित उनके दूसरे कहानी संग्रह ‘औरत की फितरत’ की भूमिका मुंशी प्रेमचन्द ने ही लिखी थी। अश्क जी को 1972 में ‘सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया।


हर सप्ताह सुनिए एक नयी कहानी


“लाला को जैसे बिजली का तार छू गया”
(उपेन्द्रनाथ “अश्क” की “आ लड़ाई आ” से एक अंश)




नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
आ लड़ाई आ MP3


#Ninth Story, Aa Ladai Aa: Upendra Nath Ashq/Hindi Audio Book/2018/9. Voice: Anurag Sharma

Related posts

संगीत के आकाश में अपनी चमक फैलाने को आतुर एक और नन्हा सितारा – पी. भाविनी

Amit

कर चले हम फ़िदा…कैफी आज़मी के इन बोलों ने चीर कर रख दिया था हर हिन्दुस्तानी कलेजा

Sajeev

कितना हसीं है मौसम, कितना हसीं सफर है….जब चितलकर की आवाज़ को सुनकर तलत साहब का भ्रम हुआ शैलेन्द्र को

Sajeev

Leave a Comment