Dil se Singer

मैजस्टिक मूँछें – सलिल वर्मा, उषा छाबड़ा, अनुराग शर्मा

‘बोलती कहानियाँ’ स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में विष्णु प्रभाकर की कहानी रोटी या पाप का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं अनुराग शर्मा की “मैजस्टिक मूँछें”, जिसको स्वर दिया है सलिल वर्मा, उषा छाबड़ा, और अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 19 मिनट 45 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

अनुराग शर्मा की कहानी मैजेस्टिक मूँछें का गद्य हिंदी समय पर उपलब्ध है। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


शक्ति के बिना धैर्य ऐसे ही है जैसे बिना बत्ती के मोमबत्ती।
अनुराग शर्मा (पिट्सबर्ग)


हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी


“तुम जबसे गयीं, निपट अकेला हूँ। वही शनिवार, वही तीसरा पहर, वही अड्डा, वही बेंच, वही आवाज़ें।”
(अनुराग शर्मा की “मैजस्टिक मूँछें” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
मैजेस्टिक मूँछें mp3

#Fourth Story: Majestic Moustache; Author: Anurag Sharma; Voice: Salil Varma, Usha Chhabra, Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2018/4.

Related posts

आज हो रहा है ‘सिने पहेली’ का आधा सफ़र पूरा

PLAYBACK

रसभरी चैती : SWARGOSHTHI – 267 : CHAITI SONGS

कृष्णमोहन

चित्रकथा – 47: इस दशक के नवोदित नायक (भाग – 8)

PLAYBACK

5 comments

चला बिहारी ब्लॉगर बनने February 6, 2018 at 2:43 pm

मैं तो भूल भी गया था! पता नहीं कितना पुराना ध्वनिमुद्रण है, स्वयं मुझे स्मरण नहीं! बहुत सुन्दर सम्पादन! आभार अनुराग सर!

Reply
Smart Indian February 9, 2018 at 1:32 am

आभार आपका, मज़ा आ गया!

Reply
Anita February 9, 2018 at 5:25 am

कहानी में नाटक का आनंदआ गया..बहुत प्रभावशाली प्रस्तुति !

Reply
Smart Indian February 10, 2018 at 7:21 pm

धन्यवाद अनिता जी!

Reply
Vibha Rashmi August 30, 2018 at 4:46 am

कहानी में नाटक का पुट कहानी के चरित्रों के मन को विश्लेषित कर रहा है । कहानी ऐतिहासिक जानकारियों को भी परोस रही है । प्रारंभ में ध्वनि तनिक अस्पष्ट थी ।फिर दुरुस्त हो गई । बधाई ।

Reply

Leave a Comment