Dil se Singer

रोटी या पाप: विष्णु प्रभाकर

‘सुनो कहानी’ इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में दूधनाथ सिंह की कहानी सरहपाद का निर्गमन का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं विष्णु प्रभाकर की “रोटी या पाप”, जिसको स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


मेरे जीने के लिए सौ की उमर छोटी है
~विष्णु प्रभाकर (12 जून 1912 – 11 अप्रैल 2009)



हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी


“सेठ शांतिलाल की मोटर वहाँ आकर रुक चुकी थी।”
(विष्णु प्रभाकर की “रोटी या पाप” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें:
रोटी या पाप mp3

#Third Story: Roti Ya Paap; Author: Vishnu Prabhakar; Voice: Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2018/3.

Related posts

मैं हूँ कली तेरी तू है भँवर मेरा, मैं हूँ नज़र तेरी तू है जिगर मेरा…लता का एक दुर्लभ गीत

Sajeev

चल मेरे घोड़े टिक टिक टिक…प्रेम धवन ने लिखा इस फ़साने को, स्वर दिया लता ने

Sajeev

टूटे तारे उठा ले…उनसे चंदा बना ले…प्रेरणा के स्वर पोपोन की आवाज़ में

Sajeev

1 comment

Anita January 24, 2018 at 8:22 am

दिल को छूने वाली कहानी..

Reply

Leave a Comment