Dil se Singer

गीत अतीत || सीसन 01 || 30 एपिसोड्स

Show name : Geet Ateet – Har Geet Kii Ek Kahaani Hoti Hai
हर गीत जो आपके कानों तक पहुँचता है, वो रचना के बहुत से पडावों से होकर गुजरता है, यानी हर गीत का एक अतीत होता है, और हर गीत की एक कहानी होती है. इसी तरह के किसी ख़ास गीत से जुड़े किसी कलाकार की जुबानी हम सुनेगें उस गीत के बनने की कहानी गीत अतीत में 

गीत अतीत 01 || हर गीत की एक कहानी होती है || ओ रे रंगरेज़ा || जॉली एल एल बी || जुनैद वसी

गीत अतीत 02 || हर गीत की एक कहानी होती है || मैनरलेस मजनूँ || रंनिंग शादी डॉट कॉम || सुकन्या पुरकायस्थ
गीत अतीत 03 || हर गीत की एक कहानी होती है || रंग || अरविन्द तिवारी || चाणक्य शुक्ला || सजीव सारथी
गीत अतीत 04 || हर गीत की एक कहानी होती है || हमसफ़र || बदरी की दुल्हनिया || अखिल सचदेवा ||

गीत अतीत 06 || हर गीत की एक कहानी होती है || हौले हौले || साहिल सुल्तानपुरी
गीत अतीत 07 || हर गीत की एक कहानी होती है || कागज़ सी है ज़िन्दगी || जीना इसी का नाम है || नाजिम के अली
गीत अतीत 08 || हर गीत की एक कहानी होती है || बेखुद || बिस्वजीत नंदा || हेमा सरदेसाई
गीत अतीत 09 || हर गीत की एक कहानी होती है || इतना तुम्हें || मशीन || अराफात महमूद
गीत अतीत 10 || हर गीत की एक कहानी होती है || आ गया हीरो || आ गया हीरो || आर्घ्या बैनर्जी
गीत अतीत ११ ||हर गीत की एक कहानी होती है || ये मैकदे ||अजय सहाब || पंकज उधास  
गीत अतीत 13  दम दम – फिल्लौरी – शाश्वत सचदेव 
गीत अतीत १४ धीमी – अलोकानन्दा दासगुप्ता
गीत अतीत १५ कारे कारे बदरा || ब्लू माउंटेन्स || सुनील सिरवैया 
गीत अतीत १६ : रेज़ा रेज़ा : सलाम मुंबई : दिलशाद शब्बीर शैख़ 
गीत अतीत १७ – रिश्ता – लाली की शादी में लड्डू दीवाना – गुलाम मोहम्मद खावर 
गीत अतीत १८ – जियो रे बाहुबली – संजीव चिमाल्गी 
गीत अतीत १९ – ओ रे कहारों – कल्पना पटवारी 
गीत अतीत २० – लॉस्ट विथआउट यू  
गीत अतीत २१ – जाने क्या हो गया – देश दीपक
गीत अतीत २२ – इश्क ने ऐसा शंख बजाया – लव यू फॅमिली 
गीत अतीत २३ – बुरी बुरी (डियर माया)
गीत अतीत २४ – बनजारा (सुदीप जयपुरवाले )
गीत अतीत २५ – कहना ही क्या (बॉम्बे)
गीत अतीत २६ : तेरी ज़मीन (राग देश)
गीत अतीत २७ : चढ़ता सूरज (इंदु सरकार)
गीत अतीत २८ : बखेड़ा /हंस मत पगली (टॉयलेट एक प्रेम कथा )
गीत अतीत २९ – बर्फानी – ओरुनिमा भट्टाचार्य 
गीत अतीत ३० – बावली बूच (लाल रंग)

Related posts

पूछो न कैसे मैंने रैन बितायी…फाल्के सम्मान पाने के बाद पहली बार पधारे मन्ना दा ओल्ड इस गोल्ड पर

Sajeev

जब उसने गेसु बिखराये…एक अदबी शायर जो दशक दर दशक रचता गया फ़िल्मी गीतों का कारवाँ भी

Sajeev

हरिशंकर परसाई: शर्म की बात पर ताली पीटना

Smart Indian

Leave a Comment