Dil se Singer

छाया-गीत आलेख लेखन प्रतियोगिता के परिणाम

छाया-गीत आलेख लेखन प्रतियोगिता के परिणाम

’रेडियो प्लेबैक इंडिया’ की तरफ़ से आप सभी को सुजॉय चटर्जी का नमस्कार! गत 16 जनवरी को ’छाया गीत आलेख लेखन प्रतियोगिता’ की घोषणा की गई थी। तब से लेकर प्रतियोगिता की समय-सीमा पूरी होने तक, यानी कि 10 फ़रवरी तक करीब-करीब 550 पाठक इस प्रतियोगिता के पेज पर पधारे, और उनमें से कईयों ने अपनी अपनी प्रविष्टि भेज कर हमारे इस पूरे आयोजन को सफल व सार्थक बनाया। इसके लिए हम आप सभी का तह-ए-दिल से शुक्रिया अदा करते हैं।

’विविध भारती’ के प्रसिद्ध ’छाया गीत’ कार्यक्रम के स्वरूप में आलेख लिख कर और गीतों का चयन कर आप सब ने हमें भेजा, और हमारी निर्णायक मंडल ने सभी प्रविष्टियों को भाषा, आलेख की सुन्दर प्रस्तुति और गीतों के चयन के पैमानों पर परखा, और विजेताओं का निर्धारण किया।
परिणाम

प्रथम स्थान – आशा गुप्ता, पोर्ट ब्लेअर

द्वितीय स्थान – प्रकाश गोविन्द, लखनऊ

द्वितीय स्थान – मिठाई लाल, वाराणसी

तृतीय स्थान – व्योमा मिश्र, इन्दौर


आप सभी विजेताओं को ’रेडियो प्लेबैक इंडिया’ की हार्दिक बधाई!




निर्णायक मंडल
1. कृष्णमोहन मिश्र (वरिष्ठ पत्रकार)
2. सजीव सारथी (कवि व गीतकार)
3. संज्ञा टंडन (वरिष्ठ नैमित्तिक उद्‍घोषिका, आकाशवाणी बिलासपुर)



आप तीनों आदरणीय निर्णायक महोदय/महोदया का बहुत बहुत धन्यवाद!

पुरस्कार
आप चारों विजेताओं को पुरस्कार स्वरूप हम प्रदान कर रहे हैं आप ही के द्वारा लिखे गए ’छाया गीत’ आलेख का श्रव्य संस्करण। नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर आप अपना लिखा हुआ ’छाया गीत’ सुन सकते हैं। इन्हें तैयार किया संज्ञा टंडन जी ने जिनका हम शुक्रिया अदा करते हैं।


आशा गुप्ता द्वारा प्रस्तुत ’छाया गीत’









प्रकाश गोविन्द द्वारा प्रस्तुत ’छाया गीत’


मिठाई लाल द्वारा प्रस्तुत ’छाया गीत’




व्योमा मिश्र द्वारा प्रस्तुत ’छाया गीत’

इस पुरस्कार के अलावा ’रेडियो प्लेबैक इंडिया’ आप चारों विजेताओं को यह मौका देती है कि आप अपना लिखा सिनेमा या सिनेमा-संगीत से जुड़ा कोई लेख हमारे साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में प्रकाशित करवा सकते हैं। इसके लिए आप अपना लेख soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर लिख भेजिए। लेख मौलिक होना आवश्यक है।




तो आज बस इतना ही, विजेताओं को एक बार फिर से बधाई तथा आप सभी को धन्यवाद देते हुए आज की प्रस्तुति हम यहीं समाप्त करते हैं, अगले शनिवार ’चित्रकथा’ के साथ मैं, सुजॉय चटर्जी, वापस लौटूंगा, तब तक के लिए अनुमति दीजिए, नमस्कार!

प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी  


रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

Related posts

ज़रा ओ जाने वाले…..और जाने वाला कब लौटता है, आवाज़ परिवार याद कर रहा है आज सी रामचंद्र को

Sajeev

और इस दिल में क्या रखा है….कल्याणजी आनंदजी जैसे संगीतकारों के रचे ऐसे गीतों के सिवा

Sajeev

कहीं बेखयाल होकर यूं ही छू लिया किसीने…और डुबो दिया रफ़ी साहब ने मजरूह की शायरी में

Sajeev

2 comments

Sajeev February 25, 2017 at 3:38 am

Sabhi vijetaaon ko badhaai, sangya ji rocks….excellent concept sujoi bhai

Reply
Anonymous April 16, 2017 at 5:48 pm

First time Excellent to see read & hear. Weldone

Reply

Leave a Comment