Uncategorized

महफ़िल ए कहकशां – 17, मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

महफ़िल ए कहकशाँ 17




 राहत फ़तेह अली खान

दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है राहत फ़तेह अली खान की आवाज़ में एक पंजाबी नगमा| 












मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 
स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी

Related posts

दर्शन प्यासी आई दासी…मधुबाला की विनती को स्वर दिए गीता दत्त ने

Sajeev

रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत (९)

Sajeev

इस तरह से बजा 'पहला सुर' (Story of Pahala Sur)

Amit

Leave a Comment