Dil se Singer

महफ़िल ए कहकशां – 17, मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

महफ़िल ए कहकशाँ 17




 राहत फ़तेह अली खान

दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है राहत फ़तेह अली खान की आवाज़ में एक पंजाबी नगमा| 












मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 
स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी

Related posts

राग धानी : SWARGOSHTHI – 475 : RAG DHANI

कृष्णमोहन

ठुमरी तिलंग : SWARGOSHTHI – 350 : THUMARI TILANG

कृष्णमोहन

‘रंगरेज’ की कूची में अपेक्षित रंगों का अभाव मगर सुर सटीक

Amit

Leave a Comment