Dil se Singer

यह ऐसी प्यास है जिसे मुद्दत से मिले मयखाना… सुनते हैं फिर एक बार जगजीत सिंह को

महफ़िल ए कहकशाँ 13





जगजीत सिंह 




दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है हस्ती की गज़ल और जगजीत सिंह की आवाज़|





मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी



Related posts

‘पाकीज़ा’ गीतों में पाश्चात्य स्वरों के मेल भी और देसी मिटटी की महक भी

Sajeev

आप यूं ही अगर हमसे मिलते रहें….देखिये आपको भी 'ओल्ड इस गोल्ड' से प्यार हो जायेगा

Sajeev

आज की महफ़िल में सुनिए क्यों संगीतकार खय्याम दस वर्ष की छोटी उम्र में घर से भाग गए?

Pooja Anil

Leave a Comment