Dil se Singer

है जिसकी रंगत शज़र-शज़र में, ख़ुदा वही है.. कविता सेठ ने सूफ़ियाना कलाम की रंगत ही बदल दी हैं

महफ़िल ए कहकशाँ 14





कविता सेठ 





दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है कविता सेठ की आवाज़ में यह सूफी नज़्म|















मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी



Related posts

आफताब-ए-मौसिकी फ़ैयाज़ खाँ : SWARGOSHTHI – 245 : USTAD FAIYAZ KHAN

कृष्णमोहन

२३ फरवरी – आज का गाना

Amit

राग बागेश्री : SWARGOSHTHI – 377 : RAG BAGESHRI

कृष्णमोहन

Leave a Comment