Dil se Singer

है जिसकी रंगत शज़र-शज़र में, ख़ुदा वही है.. कविता सेठ ने सूफ़ियाना कलाम की रंगत ही बदल दी हैं

महफ़िल ए कहकशाँ 14





कविता सेठ 





दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है कविता सेठ की आवाज़ में यह सूफी नज़्म|















मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी



Related posts

सुनो कहानी: माय नेम इज खान

Amit

जिंदगी हर कदम एक नयी जंग है….जबरदस्त सकारात्मक ऊर्जा है इस गीत में

Sajeev

सजन रे झूठ मत बोलो खुदा के पास जाना है…शायद ये गीत काफी करीब था मुकेश की खुद की सोच से

Sajeev

Leave a Comment