Dil se Singer

चाहा था एक शख़्स को… कहकशाँ-ए-तलबगार में आशा की गुहार


कहकशाँ – 18
आशा भोसले की तरसती आँखों के ज़रिये प्रेम की अनबुझ कहानी 
“आँखों को इंतज़ार का देके हुनर चला गया…”

’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा सलाम! दोस्तों, शेर-ओ-शायरी, नज़्मों, नगमों, ग़ज़लों, क़व्वालियों की रवायत सदियों की है। हर दौर में शायरों ने, गुलुकारों ने, क़व्वालों ने इस अदबी रवायत को बरकरार रखने की पूरी कोशिशें की हैं। और यही वजह है कि आज हमारे पास एक बेश-कीमती ख़ज़ाना है इन सुरीले फ़नकारों के फ़न का। यह वह कहकशाँ है जिसके सितारों की चमक कभी फ़ीकी नहीं पड़ती और ता-उम्र इनकी रोशनी इस दुनिया के लोगों के दिल-ओ-दिमाग़ को सुकून पहुँचाती चली आ रही है। पर वक्त की रफ़्तार के साथ बहुत से ऐसे नगीने मिट्टी-तले दब जाते हैं। बेशक़ उनका हक़ बनता है कि हम उन्हें जानें, पहचानें और हमारा भी हक़ बनता है कि हम उन नगीनों से नावाकिफ़ नहीं रहें। बस इसी फ़ायदे के लिए इस ख़ज़ाने में से हम चुन कर लाएँगे आपके लिए कुछ कीमती नगीने हर हफ़्ते और बताएँगे कुछ दिलचस्प बातें इन फ़नकारों के बारे में। तो पेश-ए-ख़िदमत है नगमों, नज़्मों, ग़ज़लों और क़व्वालियों की एक अदबी महफ़िल, कहकशाँ। आज पेश है आशा भोसले की आवाज़ में एक ग़ज़ल, मौसिकार हैं ख़य्याम और कलाम है हसन कमाल का।



कुछ कड़ियाँ पहले मैंने मन्ना डे साहब का वास्तविक नाम देकर लोगों को संशय में डाल दिया था। पूरा का पूरा एक पैराग्राफ़ इसी पर था कि दिए गए नाम से फ़नकार को पहचानें। आज सोच रहा हूँ कि वैसा कुछ फिर से करूँ। अहा… आप तो ख़ुश हो गए होंगे कि मैंने तो इस आलेख का शीर्षक ही “आशा की गुहार” दिया है तो चाहे कोई भी नाम क्यों न दूँ फ़नकार तो आशा भोसले ही हैं। लेकिन पहेली अगर इतनी आसान हो तो पहेली काहे की। तो भाई पहेली यह है कि आज के फ़नकार एक संगीतकार हैं और उनका वास्तविक नाम है “मोहम्मद ज़हुर हाशमी”। अब पहचानिए कि मैं किस संगीतकार के बारे में बात कर रहा हूँ। आपकी सहूलियत के लिए दो हिंट देता हूँ- क) इस आलेख के शीर्षक को सही से पढें। हम जिस ग़ज़ल की आज बात कर रहे हैं, उसका नाम इस शीर्षक में है और उस ग़ज़ल के एलबम के नाम में इन संगीतकार का नाम भी है। ख) १९७६ में बनी एक फ़िल्म में दो नायक और एक नायिका ऐसे त्रिकोण में उलझे कि एक बार मुकेश को तो एक बार लता जी को कहना पड़ा -“…दिल में ख़्याल आता है”। यह ख़्याल किसी और का नहीं, इन्हीं का था। अब आप लोग अपने दिमागी नसों पर जोर दें और हमारे आज के फ़नकार को पहचानें और उनका एहतराम करें।


मुझे मालूम है कि सारे हिंट आसान थे, इसलिए “ख़य्याम” साहब को पहचानने में कोई तकलीफ़ नहीं हुई होगी। ख़य्याम साहब ने हिंदी फ़िल्मी-संगीत को एक से बढ़कर एक नगमें दिए हैं। वही अगर गैर-फ़िल्मी गानों या ग़ज़लों की बात करें तो इस क्षेत्र में भी ख़य्याम साहब का ख़ासा नाम है। जहाँ एक ओर इन्होंने मिर्ज़ा ग़ालिब, दाग़ दहलवी, वली साहब, अली सरदार जाफ़री, मज़रूह सुल्तानपुरी, साहिर लु्धियानवी, कैफ़ी आज़मी जैसे पुराने और मंझे हुए गीतकारों और गज़लकारों के लिए संगीत दिया है, वहीं निदा फ़ाज़ली, नक्श ल्यालपुरी, अहमद वसी जैसे नए गज़लगो की गज़लों को भी अपने सुरों से सजाया है। इस तरह ख़य्याम किसी एक दौर के फ़नकार नहीं कहे जा सकते, उनका संगीत तो सदाबहार है। अब हम आज की ग़ज़ल की ओर बढते हैं। ’कहकशाँ’ की चौथी कड़ी में हमने इसी एलबम के एक गज़ल को सुनाया था- “लोग मुझे पागल कहते हैं”। मुझे उम्मीद है कि आप अभी तक उस गज़ल में आशा ताई की मखमली आवाज़ को नहीं भूले होंगे। उस गज़ल में जैसा सुरूर था, मैं दावा करता हूँ कि आपको आज की गज़ल में भी वैसा ही सुरूर सुनाई देगा, वैसा ही दर्द महसूस होगा। यह तो सबको पता होगा कि ख़य्याम साहब और आशा ताई ने बहुत सारे फ़िल्मी गानों में साथ काम किया है। इसी साथ का असर था कि “इन आँखों की मस्ती के”, “ये क्या जगह है दोस्तों” जैसे गानें बनकर तैयार हुए। इस जोड़ी की एक ग़ज़लों की एलबम भी आई थी, जिसका नाम था “आशा और ख़य्याम”। आज की ग़ज़ल “चाहा था एक शख़्स को” इसी मकबूल एलबम से है।


“आँखों को इंतज़ार का देके हुनर चला गया”- यह हुनर भी एक “कमाल” है, यह कभी एक कशिश है तो कभी एक ख़लिश है। प्यार में डूबी निगाहें इस इंतज़ार का अनुभव नहीं करना चाहतीं, वहीं जिन निगाहों को प्यार नसीब नहीं, उनके लिए यह इंतज़ार भी दुर्लभ होता है और वे इस मज़े के लिए तरसती हैं। तो फिर यह इंतज़ार है ना कमाल की चीज? कभी इस इंतज़ार का सही मतलब जानना हो तो उनसे पूछिये जिनका प्यार अब उनका नहीं रहा। उन लोगों ने इस इंतज़ार के तीन रूप देखे हैं- पहला: जब प्यार नहीं था तब इंतज़ार की चाह, दूसरा: जब प्यार उनकी पनाहों में था तब अनचाहे इंतज़ार का लुत्फ़ और तीसरा: अब जब प्यार उनका नहीं रहा तब इंतज़ार का दर्द। मेरे अनुसार अगर तीसरे इंतज़ार को छोड़ दें तो बाकी दो का अपना ही एक मज़ा है। लेकिन तीसरा इंतज़ार इन दोनों पर कई गुणा भारी पड़ता है। अगर मालूम हो कि आप जिसकी राह देख रहे हों वह नहीं आने वाला लेकिन फिर भी आप उसकी राह तकने पर मजबूर हों तो इस पीड़ा को क्या नाम देंगे…किस्मत के सिवा…..!!!


आज की ग़ज़ल की ओर बढने से पहले मैं अपना कुछ सुनाना चाहता हूँ। मुलाहजा फरमाईयेगा:


वो दूर गया अपनों की तरह,
फिर ग़ैर हुआ सपनों की तरह।


यह तो हुआ मेरा शेर, अब हम आशा भोसले की तरसती आँखों के ज़रिये प्रेम की अनबुझ कहानी का रसास्वादन करते हैं। आप ख़ुद देखिये कि “कमाल” साहब ने अपने शब्दों से क्या कमाल किया है:


आँखों को इंतज़ार का देके हुनर चला गया,
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया।


दिन की वो महफ़िलें गईं रातों के रतजगे गए,
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।


झोंका है एक बहार का रंग-ए-ख़्याल-ए-यार भी,
हरसू बिखर बिखर गई खुशबू, जिधर चला गया।


उसके ही दम से दिल में आज धूप भी चाँदनी भी है,
देके वो अपनी याद के शम्स-ओ-क़मर चला गया।


कूँचा-ब-कूँचा दर-ब-दर कब से भटक रहा है दिल,
हमको भु्लाके राह वो अपनी डगर चला गया।


’कहकशाँ’ की आज की यह पेशकश आपको कैसी लगी, ज़रूर बताइएगा नीचे ’टिप्पणी’ पे जाकर। या आप हमें ई-मेल के ज़रिए भी अपनी राय बता सकते हैं। हमारा ई-मेल पता है soojoi_india@yahoo.co.in. ‘कहकशाँ’ के लिए अगर आप कोई लेख लिखना चाहते हैं, तो इसी ई-मेल पते पर हम से सम्पर्क करें। आज बस इतना ही, अगले जुमे-रात को फिर हमारी और आपकी मुलाक़ात होगी इस कहकशाँ में, तब तक के लिए ख़ुदा-हाफ़िज़!

खोज और आलेख : विश्वदीपक ’तन्हा’
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र 
प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 


Related posts

९ मार्च- आज का गाना

Amit

सुनो कहानी – अपील का जादू – हरिशंकर परसाई

Amit

फ़िल्मी चक्र समीर गोस्वामी के साथ || एपिसोड 21 || शशि कपूर

Sajeev

Leave a Comment