Dil se Singer

आओ फिर से दिया जलाएं…. आव्हान उन सबके लिए जो किसी भी तरह की प्रेरणा चाहते हैं

महफ़िल ए कहकशाँ 12


अटल बिहारी वाजपेयी और लता मंगेशकर 





दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है लता मंगेशकर की आवाज़ में अटल बिहारी वाजपेयी की नज़्म|





मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी





Related posts

चाहूँगा मैं तुझे सांझ सवेरे…अमर कर दिया है रफी साहब ने इस गीत को अपनी आवाज़ से

Sajeev

गलियों में घूमो, सड़कों पे झूमो, दुनिया की खूब करो सैर….आशा और उषा का है ये सुरीला पैगाम

Sajeev

आज हो रहा है ‘सिने पहेली’ का आधा सफ़र पूरा

PLAYBACK

Leave a Comment