Dil se Singer

नाज़ था खुद पर मगर ऐसा न था…… ‘कहकशाँ’ में आज छाया की माया

 महफ़िल ए कहकशाँ 11


छाया गाँगुली 

दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है छाया गाँगुली की आवाज़, इब्राहिम अश्क के बोल और भूपिंदर सिंह का संगीत





मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी


Related posts

रबिन्द्र संगीत (पहला भाग) – एक चर्चा संज्ञा टंडन के साथ

Sajeev

उस्ताद बिस्मिल्लाह खान साहब का एक अनमोल इंटरव्यू और शहनाई वादन

Amit

ऑनलाइन अभिनय और काव्यपाठ का मौका

Amit

Leave a Comment