Dil se Singer

आज की महफ़िल में सुनिए क्यों संगीतकार खय्याम दस वर्ष की छोटी उम्र में घर से भाग गए?

खय्याम 

महफ़िल ए कहकशाँ 8



दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज सुनिए आशा भोंसले की गाई और खय्याम साहब द्वारा संगीतबद्ध यह ग़ज़ल |





मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 
स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी








Related posts

असरदार शब्द और वजनदार संगीत, लाजवाब गायन जाने कितने जाने अनजाने संगीत कर्मियों ने मिलकर संवारा है फिल्म संगीत का ये संसार

Sajeev

चंदा मामा मेरे द्वार आना…बच्चों के साथ बच्ची बनी आशा की आवाज़ में ये स्नेह निमंत्रण

Sajeev

प्रातःकाल के राग : SWARGOSHTHI – 301 : MORNING RAGAS

कृष्णमोहन

Leave a Comment