Dil se Singer

आज की महफ़िल में सुनिये क्या कहते हैं गुलज़ार साहब त्रिवेणियों के बारे में!


दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज सुनिए गुलज़ार साहब की त्रिवेणी की व्याख्या  और जगजीत सिंह द्वारा उनकी त्रिवेणियों को आवाज़ देना.


मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 
स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी



Related posts

वर्षा ऋतु के रंग : लोक-रस-रंग में भीगी कजरी के संग

कृष्णमोहन

ठाढ़े रहियो ओ बाँके यार…लोक-रस से अभिसिंचित ठुमरी

Sajeev

HTML Code for our player

Sajeev

Leave a Comment