Dil se Singer

उषा छाबड़ा की लघुकथा अम्मा

लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अर्चना चावजी के स्वर में पूजा अनिल की मार्मिक कथा “माँ सब देखती है” का पाठ सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, उषा छाबड़ा की लघुकथा अम्मा, उन्हीं के स्वर में।

उषा जी साहित्यिक अभिरुचि वाली अध्यापिका हैं। वे पिछले उन्नीस वर्षों से दिल्ली पब्लिक स्कूल ,रोहिणी में अध्यापन कार्य में संलग्न हैं। उन्होंने कक्षा नर्सरी से कक्षा आठवीं तक के स्तर के बच्चों के लिए पाठ्य पुस्तकें एवं व्याकरण की पुस्तक श्रृंखला भी लिखी हैं। वे बच्चों एवं शिक्षकों के लिए वर्कशॉप लेती रहती हैं। बच्चों को कहानियाँ सुनाना उन्हें बेहद पसंद है। उनकी कविताओं की पुस्तक “ताक धिना धिन” और उस पर आधारित ऑडियो सीडी प्रकाशित हो चुकी हैं। आप उनकी आवाज़ में पंडित सुदर्शन की कालजयी कहानी “हार की जीत” तथा उनकी अपनी कहानियाँ मुस्कान, “स्वेटर“, “बचपन का भोलापन” व प्रश्न पहले ही सुन चुके हैं। आप उनसे उनके ब्लॉग अनोखी पाठशाला पर मिल सकते हैं।

इस कहानी अम्मा का कुल प्रसारण समय 5 मिनट 49 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


इंसानियत की मशाल सब मिलकर उठाएं
जश्न मानवता का एक जुट हों मनाएं
चलो सब एक हो नया गीत गुनगुनाएं
प्रेम के संदेश को जन जन में फैलाएं
~ उषा छाबड़ा


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी


“पिछले 25 सालों से दिल्ली में अकेली रह रही थी।”
 (उषा छाबड़ा की लघुकथा “अम्मा” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
अम्मा MP3


#Twelfth Story, Amma: Usha Chhabra/Hindi Audio Book/2016/12. Voice: Usha Chhabra

Related posts

बोलती कहानियाँ: गाय (लघुकथा)

Smart Indian

दीपक राग है चाहत अपनी, काहे सुनाएँ तुम्हें… "होशियारपुरी" के लफ़्ज़ों में बता रही हैं "शाहिदा"

Amit

राग सिन्दूरा : SWARGOSHTHI – 464 : RAG SINDURA

कृष्णमोहन

3 comments

Anita May 18, 2016 at 5:31 am

वाकई आत्मीयता ही तो आपस में जोड़ती है…आज समाज में इसकी बहुत आवश्यकता है…सुंदर कहानी !

Reply
Ush May 25, 2016 at 1:20 am

हार्दिक आभार।

Reply
Sangeeta May 17, 2017 at 7:29 am

Bahut sundar evam sateek. Nimn varg ke logo me zyada aatmeeyata hoti hai.

Reply

Leave a Comment