Dil se Singer

अँखियाँ नूं चैन न आवे…बाबा नुसरत की रूहानी आवाज़ आज महफ़िल ए कहकशां में


महफ़िल ए कहकशां  4



नुसरत फ़तेह अली खान

दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज सुनिए नुसरत फ़तेह अली खान साहब के रूहानी स्वर में एक जुदाई गीत.



मुख्य स्वर – पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 
स्क्रिप्ट – विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी







Related posts

२५ दिसम्बर – आज के कलाकार – नौशाद, अटल बिहारी बाजपेयी, नगमा – जन्मदिन मुबारक

Amit

दुनिया करे सवाल तो हम क्या जवाब दे….रोशन के संगीत में लता की आवाज़ पुरअसर

Sajeev

ये बात मैं कैसे भूल जाऊँ कि हम कभी हमसफ़र रहे हैं….."बख्शी" साहब और "अनवर" की अनोखी जुगलबंदी

Amit

Leave a Comment