Dil se Singer

स’आदत हसन मंटो की कथा कुत्ते की दुआ

जहाँ तक मंटो को भारत और पाकिस्तान में मिलने वाले सम्मान का सवाल है तो पाकिस्तान का समाज तो ख़ैर एक बंद समाज था और वहाँ उनकी कहानियों पर प्रतिबंध लगा और उन पर मुक़दमे चले। लेकिन मैं समझता हूँ कि भारत में प्रेमचंद के बाद यदि किसी लेखक पर काम हुआ है तो वह मंटो है। हिंदी में भी, उर्दू में भी।
~ कमलेश्वर (प्रसिद्ध लेखक और उपन्यासकार)


लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने उषा छाबड़ा के स्वर में उन्हीं की शिक्षाप्रद लघुकथा लघुकथा “मुस्कान” का पाठ सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, स’आदत हसन मंटो की कथा कुत्ते की दुआ, माधवी चारुदत्ता के स्वर में।

इस कहानी कुत्ते की दुआ का कुल प्रसारण समय 19 मिनट 20 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


पागलख़ाने में एक पागल ऐसा भी था जो ख़ुद को ख़ुदा कहता था.
~ स’आदत हसन मंटो (१९१२-१९५५)


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी


“गोल्डी मेरे पास पंद्रह बरस से था।”
 (स’आदत हसन मंटो की कथा “कुत्ते की दुआ” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
मुस्कान MP3


#Seventh Story, Kutte Ki Dua: Saadat Hasan Manto/Hindi Audio Book/2016/7. Voice: Usha Chhabra

Related posts

१० मार्च- आज का गाना

Amit

आदमी बुलबुला है पानी का….. ’कहकशाँ’ में आज तख़्लीक-ए-गुलज़ार

PLAYBACK

गीत अतीत 04 || हर गीत की एक कहानी होती है || हमसफ़र || बदरी की दुल्हनिया || अखिल सचदेवा ||

Sajeev

3 comments

ब्लॉग बुलेटिन March 2, 2016 at 8:43 am

आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की १२५० वीं पोस्ट … तो पढ़ना न भूलें …
ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " ब्लॉग बचाओ – ब्लॉग पढाओ: साढे बारह सौवीं ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है … सादर आभार !

Reply
Ush March 5, 2016 at 11:30 am

बहुत ही मार्मिक कहानी। माधुरी जी द्वारा किया गया पठन भी लाजवाब है।

Reply
Unknown March 7, 2016 at 1:43 pm

शुक्रिया उषाजी

Reply

Leave a Comment