Dil se Singer

हिंदी फिल्म इतिहास का वो साल : सन १९५६ : मेरे ये गीत याद रखना


साल १९५६, कैसा था हिंदी फिल्म के इतिहास का, किन गीतों ने मचाई धूम, किन संगीतकारों का रहा दबदबा, किन गीतकारों ने चलाया कलम का जादू, वो कौन सी आवाजें थी जिन्होंने श्रोताओं के दिलों पर राज़ किया, जानिए इस साल की कहानी कार्यक्रम “मेरे ये गीत याद रखना” के इस एपिसोड में, आपके प्रिय विवेक श्रीवास्तव के साथ

Related posts

“मैंने बहुत से नए पुराने कव्वालों को सुना, इस कव्वाली को गाने से पहले…”- साकेत सिंह : एक मुलाकात ज़रूरी है

Sajeev

कोई ना रोको दिल की उड़ान को…

Amit

“आज फिर जीने की तमन्ना है…” – क्यों शुरू-शुरू में पसन्द नहीं आया था देव आनन्द को यह गीत

PLAYBACK

Leave a Comment