Dil se Singer

रसिक संपादक – प्रेमचंद

इस लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा के स्वर में सर्वेश तिवारी “श्रीमुख” की लघुकथा “दंगा” का वाचन सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं मुंशी प्रेमचंद की कहानी रसिक संपादक जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

प्रस्तुत कथा का गद्य “हिन्दी समय” पर उपलब्ध है। “रसिक संपादक” का कुल प्रसारण समय 15 मिनट 55 सेकंड है। सुनिए और बताइये कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



मैं एक निर्धन अध्यापक हूँ … मेरे जीवन मैं ऐसा क्या ख़ास है जो मैं किसी से कहूं

 ~ मुंशी प्रेमचंद (१८८०-१९३६)


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


“क्या तुम समझते हो मुझे छोड़कर भाग जाओगे?”
 (मुंशी प्रेमचंद कृत “रसिक संपादक” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
रसिक संपादक MP3


#Second Story, Rasik Sampadak : Munshi Premchand Hindi Audio Book/2016/02. Voice: Anurag Sharma

Related posts

तुम गगन के चन्द्रमा हो…..प्रेम और समर्पण की अद्भुत शब्दावली को स्वरबद्ध किया एल पी ने उसी पवित्रता के साथ

Sajeev

राग सोहनी : SWARGOSHTHI – 382 : RAG SOHANI

कृष्णमोहन

तुझसे तेरे जज्बात कहूँ…. महफ़िल-ए-पुरनम और "बेगम"

Amit

Leave a Comment