Dil se Singer

सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” की महावीर और गाड़ीवान

लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा के स्वर में सलिल वर्मा की लघुकथा “बेटी पढ़ाओ” का पाठ सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” की लघुकथा महावीर और गाड़ीवान, जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

इस कहानी महावीर और गाड़ीवान का कुल प्रसारण समय 1 मिनट 51 सेकंड है। इस लघुकथा का गद्य हिन्दी समय पर उपलब्ध है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” का जन्म वसंत पंचमी, 1896 को मेदिनीपुर (पश्चिम बंगाल) में हुआ था। उनका रचनाकर्म गीत, कविता, कहानी, उपन्यास, अनुवाद, निबंध आदि विधाओं में प्रकाशित हुआ। उनका देहांत 15 अक्टूबर 1961 को इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) में हुआ।


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


“गाड़ीवान ऊँचे स्‍वर में चिल्‍ला-चिल्‍लाकर इस बुरे वक्‍त में देवताओं की मदद माँगने लगा।”
 (सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” की लघुकथा “महावीर और गाड़ीवान” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
महावीर और गाड़ीवान MP3


#Twenty Fourth Story, Mahavir Aur Gadiwan; Suryakant Tripathi “Nirala”; Hindi Audio Book/2015/24. Voice: Anurag Sharma

Related posts

सुनो कहानी – अपील का जादू – हरिशंकर परसाई

Amit

ई मेल के बहाने यादों के खजाने – जब खान साहब ने की हमारी हौंसला अफजाई

Sajeev

संगीत के आकाश में अपनी चमक फैलाने को आतुर एक और नन्हा सितारा – पी. भाविनी

Amit

1 comment

प्रसन्नवदन चतुर्वेदी 'अनघ' PBChaturvedi November 18, 2015 at 3:38 pm

बहुत सुन्दर प्रस्तुति….आप सराहनीय कार्य कर रहे हैं…..
नयी पोस्ट@आप कहते हैं हमसे ग़ज़ल छेड़िए

Reply

Leave a Comment