Dil se Singer

असगर वजाहत की लघुकथा चार सूफी और एक कंबल

‘बोलती कहानियाँ’ इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने उषा छाबड़ा की आवाज़ में हिन्दी के अमर साहित्यकार पण्डित सुदर्शन की कालजयी रचना “हार की जीत” का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं असगर वजाहत की एक कहानी “चार सूफी और एक कंबल“, जिसको स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी “चार सूफी और एक कंबल” का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। असगर वजाहत की निम्न कहानियाँ भी रेडियो प्लेबैक इंडिया पर सुनी जा सकती हैं:

इस कथा “चार सूफी और एक कंबल” का टेक्स्ट रचनाकार पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


रात के वक्त़ रूहें अपने बाल-बच्चों से मिलने आती हैं।
~ असगर वजाहत


हर  सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी


चार कम्बल नहीं थे तो चार सूफियों को बुलाया ही क्यों था। ये सूफियों का अपमान है।
(असगर वजाहत की “चार सूफी और एक कंबल” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
चार सूफी और एक कंबल MP3

#Nineteenth Story, 4 sufi 1 kambal: Asghar Wajahat/Hindi Audio Book/2015/19. Voice: Anurag Sharma

Related posts

परिवर्तन – एक बोझ या सहज चलन जीवन का

Sajeev

फाल्गुनी गीत : SWARGOSHTHI – 310 : SONGS OF FAGUN

कृष्णमोहन

तोड़ी थाट के राग : SWARGOSHTHI – 222 : TODI THAAT

कृष्णमोहन

Leave a Comment