Dil se Singer

कंजूस मक्खीचूस – लघुकथा

इस लोकप्रिय स्तम्भ “बोलती कहानियाँ” के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा के स्वर में घुघूती बासूती की मार्मिक कहानी “क्या अगले साल” का पाठ सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अनुराग शर्मा की एक लघुकथा कंजूस मक्खीचूस जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

प्रस्तुत कथा “कंजूस मक्खीचूस” का गद्य “बर्ग वार्ता ब्लॉग” पर उपलब्ध है। “कंजूस मक्खीचूस” का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 27 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



प्रश्न कठिन हो जाते हैं,
हर उत्तर पे इतराते हैं
मैं चिंता में घुल जाता हूँ,
चलूँ तो पथ डिग जाते हैं।

 ~ अनुराग शर्मा


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


“दो मिनट की बातचीत में ही इतनी नजदीकी। लोग यूँ ही इन्हें नकचढ़ा और घमंडी बताते हैं।”
 (अनुराग शर्मा कृत “कंजूस मक्खीचूस” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
कंजूस मक्खीचूस MP3


#2nd Story, Kanjoos Makkhichoos: Anurag Sharma Hindi Audio Book/2015/02. Voice: Anurag Sharma

Related posts

स्वतन्त्रता दिवस के शुभ अवसर पर मुंशी प्रेमचंद की विशेष कहानी

Amit

मासिक पत्रिका ‘आहा! ज़िंदगी’ का संगीत विशेषांक है बेहद खास

कृष्णमोहन

“कई सदियों से, कई जनमों से…”, केवल 24 घण्टे के अन्दर लिख, स्वरबद्ध और रेकॉर्ड होकर पहुँचा था सेट पर यह गीत

PLAYBACK

1 comment

Suman January 15, 2015 at 1:44 pm

क्या करे भारतीय संस्कार है कहीं भी रहो छूटते ही नहीं 🙂 सुन्दर सटीक कहानी !

Reply

Leave a Comment