Dil se Singer

नए साल 2015 में शनिवार के नियमित स्तम्भ रूप में आप कौन सा स्तम्भ पढ़ना पसन्द करेंगे?

अपना मनपसन्द स्तम्भ पढ़ने के लिए दीजिए अपनी राय!!!

नए साल 2015 में शनिवार के नियमित स्तम्भ रूप में आप कौन सा स्तम्भ पढ़ना सबसे ज़्यादा पसन्द करेंगे?

1.  सिने पहेली (फ़िल्म सम्बन्धित पहेलियों की प्रतियोगिता)

2. एक गीत सौ कहानियाँ (फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया से जुड़े दिलचस्प क़िस्से)

3. स्मृतियों के स्वर (रेडियो (विविध भारती) साक्षात्कारों के अंश)

4. बातों बातों में (रेडियो प्लेबैक इण्डिया द्वारा लिये गए फ़िल्म व टीवी कलाकारों के साक्षात्कार)


5. बॉलीवुड विवाद (फ़िल्म जगत के मशहूर विवाद, वितर्क और मनमुटावों पर आधारित श्रृंखला)

अपनी राय नीचे टिप्पणी में अथवा cine.paheli@yahoo.com पर अवश्य बताएँ। 

Related posts

रात के हमसफ़र थक के घर को चले….

Sajeev

नाता (अनुपमा चौहान की आवाज़ में गीत)

Amit

इक अनजाने की तस्वीर आँखों में लिए फिरता हुस्न

Sajeev

5 comments

Pankaj Mukesh October 16, 2014 at 4:34 am

Chahata to sabhi hoon, magar shaniwaar ke din kewal-"ciine paheli"

baki ke sare stambh-
2. एक गीत सौ कहानियाँ (फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया से जुड़े दिलचस्प क़िस्से)
3. स्मृतियों के स्वर (रेडियो (विविध भारती) साक्षात्कारों के अंश)
4. बातों बातों में (रेडियो प्लेबैक इण्डिया द्वारा लिये गए फ़िल्म व टीवी कलाकारों के साक्षात्कार)
5. बॉलीवुड विवाद (फ़िल्म जगत के मशहूर विवाद, वितर्क और मनमुटावों पर आधारित श्रृंखला)
guruwaar aur shukrawaar ke 1-2 tath 3-4 saptaaah eiin vibhajit kar sab kuchh pathakon/shrotaon tak pahunchayein..
shuriya

Reply
चन्द्रकांत दीक्षित October 16, 2014 at 4:44 am

एक गीत सौ कहानियाँ (फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया से जुड़े दिलचस्प क़िस्से)
(मुझे पिछली सिने पहेली प्रतियोगिता का पुरस्कार अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है कृपया जानकारी दें)

Reply
Sujoy Chatterjee October 16, 2014 at 1:14 pm

Pankaj ji,

inmein se keval do hi prastut kar payunga, aur woh bhi keval shanivaar ke din. aap kisi ek par hi mohar lagaaen 🙂

Reply
Sujoy Chatterjee October 16, 2014 at 1:16 pm

Chandrakant ji,

main aaj hi aapko courier karne chala tha par ho nahi paaya. is shanivaar ko karunga. asha hai agle saptaah aapko pustak mil jayegi.

Pankaj ji ne apna pataa nahi bheja hai. unse anurodh hai ki apan pata bhejen taaki aapko bhi yeh pustak bheja ja sake.

Reply
Ashok M Vaishnav - અશોક વૈષ્ણવની ફુર્શતની પળો October 17, 2014 at 12:37 pm

My personal preference is for 2,3 and 4.

Reply

Leave a Comment