Dil se Singer

दिल्ली और लाहौर के बीच बंटी संवेदनाएं

ताज़ा सुर ताल – जो दिखते हो 

लकीरें है तो रहने दो, किसी ने रूठ कर गुस्से में खींच दी थी..उन्हीं को अब बनाओ पाला आओ कबड्डी खेलते हैं…लकीरें है तो रहने दो….गुलज़ार साहब ने इन्हीं शब्दों के साथ इस फिल्म को आगाज़ दिया है. क्या दिल्ली क्या लाहौर  एक अलग तरह का अंदाज़े बयां है जो बंटवारे का दर्द बेहद संवेदनशीलता से प्रस्तुत करती है. अभिनेता विजय राज़ की ये पहली फिल्म है बतौर निर्देशक. फिल्म में विजय राज़ के साथ हैं अभिनेता मनु ऋषि जो फिल्म के संवाद लेखक भी हैं. वैसे फिल्म में गीत संगीत का पार्श्व संगीत की तरह ही इस्तेमाल हुआ है, पर जब गीत लिखे हों गुलज़ार साहब ने और संगीत हो सन्देश संदलिया का तो गीत की एक चर्चा तो बनती ही है. तो लीजिये आज सुनिए ताज़ा सुर ताल में इसी फिल्म का एक गीत जिसे गुलज़ार साहब ने इतने खूबसूरत अंदाज़ में लिखा है कि पूरी फिल्म का सार सिमट के आ जाता है इस नन्हें से गीत में, शफकत अमानत अली खान साहब की परिपक्व आवाज़ में सुनिए जो दिखते हो….

Related posts

कृश्न चन्दर – एक गधे की वापसी – अंतिम भाग (3/3)

Amit

मैंने देखी पहली फिल्म – रंजना भाटिया का संस्मरण

कृष्णमोहन

मैं तो हर मोड पे तुझको दूंगा सदा….दिलों के बीच उभरी नफरत की दीवारों को मिटाने की गुहार

Sajeev

1 comment

Ankur Jain May 9, 2014 at 9:34 am

बेहद खूबसूरत…उत्सुकता है फिल्म देखने की।।।

Reply

Leave a Comment