Dil se Singer

वफ़ा और ज़फा की शर्तों के बीच कैद एक नगमा



खरा सोना गीत – है इसी में प्यारा की आबरू 
प्रस्तोता – दीप्ति सक्सेना 
स्क्रिप्ट – सुजॉय चट्टर्जी
प्रस्तुति – संज्ञा टंडन 

Related posts

कारी कारी कारी अंधियारी सी रात…..सावन की रिमझिम जैसी ठडक है अन्ना के संगीत में भी

Sajeev

पुण्य तिथि पर पण्डित विष्णु गोविन्द (वी.जी.) जोग को एक स्वरांजलि

कृष्णमोहन

“अभी भी ग़ज़ल के कद्रदान बहुत हैं, हमें नाउम्मीद नहीं होना चाहिए” – चन्दन दास : एक मुलाकात ज़रूरी है

Sajeev

Leave a Comment