Dil se Singer

तलत में आवाज़ में महसूस हुई एक हारे हुए प्रेमी की तड़प

खरा सोना गीत # आँसू समझ के 
प्रस्तोता : लिंटा मनोज 
स्क्रिप्ट : सुजॉय चट्टर्जी
प्रस्तुति : संज्ञा टंडन 

Related posts

नव दधीचि हड्डियां गलाएँ, आओ फिर से दिया जलाएँ… अटल जी के शब्दों को मिला लता जी की आवाज़ का पुर-असर जादू

Amit

आज छुपा है चाँद – नया ओरिजिनल – वरिष्ठ कवि पिता और युवा संगीतकार पुत्र की संगीतमयी बैठक

Sajeev

सुनो कहानी: प्रेमचंद की 'ठाकुर का कुआँ''

Amit

Leave a Comment