Dil se Singer

एनी बडी कैन डांस – इसका संगीत है ही नाचने के लिए

प्लेबैक वाणी -33 -संगीत समीक्षा – ए बी सी डी – एनी बडी कैन डांस

विश्व सिनेमा में डांस म्युसिकल्स की पारंपरिक श्रृखलाएं रहीं हैं जो बेहद
कामियाब भी साबित हुई है. भारत में इस ट्रेंड को बहुत अधिक परखा नहीं गया कभी. पर अब
रेमो डी
सूजा प्रभु देवा के साथ मिलकर
अपने इस ख्वाब रुपी फिल्म को अमली जामा पहना चुके हैं, फिल्म थ्री डी में है इसमें
देश के सबसे उन्दा डांसर्स दर्शकों को एक साथ नज़र आयेंगें. चलिए आज बात करते हैं इसी
संगीतमय फिल्म के संगीत की, जिसे संवारा है सचिन जिगर ने.
शंकर महादेवन और विशाल दादलानी के स्वरों में शभु सुतया से बेहतर और क्या शुरुआत हो सकती थी एल्बम की. पारंपरिक ढोल रिदम के साथ ये
नृत्य प्रार्थना कहीं कहीं शिव के नटराज रूप की भी झलक देती है. गीत के अंतिम हिस्से
में शंकर अपने चिर परिचित अंदाज़ में श्रोताओं का दिल जीत ले जाते हैं.
बेजुबान एक नृत्य प्रेमी
की भावनाओं को स्वर देता गीत है, जिसमें सफलता से दूर रहने की कुंठा और हर हाल में
कामियाब होने की लगन दोनों बखूबी झलकते हैं. मोहित चौहान के साथ ढेरों अन्य गायक भी
हैं पर मोहित की आवाज़ ही इस गीत की जान है. गीतकारा प्रीती पंचाल की भी आवाज़ है गीत
में. एक शानदार ट्रेक जो लंबे समय तक श्रोताओं को याद रहेगा.
अगला गीत सायिको रे एक मस्त अंदाज़ का गीत है. दक्षिण भारतीय शहनाई
के फ्लेवर में मिका के पंजाबी तडके का जबरदस्त कोकटेल है ये गीत. उदित नारायण बहुत
दिनों बाद फॉर्म में सुनाई दिये हैं. बीच बीच में रैप और संवाद भी दिलचस्प हैं.
अनुष्का मनचंदा की आवाज़ में है मन बसियो संवारियो. गायिकी
को छोड़ दिया जाए तो गीत कुछ खास प्रभावी नहीं है. शब्द भी सामान्य हैं.
गायकों की एक फ़ौज है अगले गीत चंदू की गर्लफ्रेंड में.
ये गीत देखने में बढ़िया लग सकता है पर सुनने में कुछ खास असरदायक नहीं है. इस ढर्रे
के बहुत से गीत बन चुके हैं और ये गीत विशेष कुछ खास पेश नहीं करता.
माधव कृष्णा की दमदार आवाज़ में अगला गीत दुहाई है बेहद जबरदस्त है, बेजुबान की ही तरह ये गीत भी एक कलाकार के सफर और सफलता
की अंधी दौड में आती धूप छांव को सहेजता से रेखांकित करता है ये नगमा. शब्द और गायिकी
में भी गीत अन्य गीतों पर भारी है, एल्बम का एक बहतरीन ट्रेक.
अपने बीट्स और तेज रिदम के कारण अगला गीत सॉरी सॉरी सुनने लायक बन गया है. शब्द दिलचस्प हैं और पंजाबी अंदाज़ का संगीत संयोजन
गीत को लोकप्रिय बना सकता है.

सूरज जगन की आवाज़ है कर
जा रे या मर जा रे
में. शायद ये
फिल्म का क्लाईमेक्स गीत है. बहुत ऊर्जा है गीत में. यक़ीनन ये गीत परदे पर बहुत रंग
जामने वाला है.
गा गा गा गणपति को हार्ड कोर ने एक सोलिड बेस दिया है. एक और
धमाकेदार गीत. कुल १० गीतों से सजी इस संगीतमय एल्बम को रेडियो प्लेबैक दे रहा है ४.१
की रेटिंग.
                   



यदि आप इस समीक्षा को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:

Related posts

स्वरगोष्ठी – 500: वर्ष 2020 के संगीत पहेली महाविजेताओं की प्रस्तुतियाँ

PLAYBACK

कैसे कोई जिये, ज़हर है ज़िंदगी… कुछ और ही रंग होता है गीता दत्त की आवाज़ में छुपे दर्द का

Sajeev

राग जयन्त मल्हार : SWARGOSHTHI – 432 : RAG JAYANT MALHAR

कृष्णमोहन

Leave a Comment