Dil se Singer

रविन्द्र संगीत (2 )- एक चर्चा संज्ञा टंडन के साथ

प्लेबैक इंडिया ब्रोडकास्ट (15)



कविगुरु रवीन्द्रनाथ ठाकुर के लिखे गीतों का, जिन्हें हम “रवीन्द्र संगीत” के नाम से जानते हैं, बंगाल के साहित्य, कला और संगीत पर जो प्रभाव पड़ा है, वैसा प्रभाव शायद शेक्सपीयर का अंग्रेज़ी जगत में भी नहीं पड़ा होगा। ऐसा कहा जाता है कि टैगोर के गीत दरअसल बंगाल के ५०० वर्ष के साहित्यिक और सांस्कृतिक मंथन का निचोड़ है। धनगोपाल मुखर्जी ने अपनी किताब ‘Caste and Outcaste’ में लिखा है कि रवीन्द्र-संगीत मानव-मन के हर भाव को प्रकट करने में सक्षम हैं। कविगुरु में छोटे से बड़ा, गरीब से धनी, हर किसी के मनोभाव को, हर किसी की जीवन-शैली को आवाज़ प्रदान की है। गंगा में विचरण करते गरीब से गरीब नाविक से लेकर अर्थवान ज़मिंदारों तक, हर किसी को जगह मिली है रवीन्द्र-संगीत में। समय के साथ-साथ रवीन्द्र-संगीत एक म्युज़िक स्कूल के रूप में उभरकर सामने आता है। रवीन्द्र-संगीत को एक तरह से हम उपशास्त्रीय संगीत की श्रेणी में डाल सकते हैं। अपने लिखे गीतों को स्वरबद्ध करते समय कविगुरु ने शास्त्रीय संगीत, बांग्ला लोक-संगीत और कभी-कभी तो पाश्चात्य संगीत का भी सहारा लिया है। (पूरा पढ़ें यहाँ)



पिछले सप्ताह आपने सुना इस ब्रोडकास्ट का पहला भाग, लीजिए आज सुनिए संज्ञा टंडन के साथ इस कड़ी का दूसरा और अंतिम भाग, स्क्रिप्ट है सुजॉय चट्टरजी की 

आप यहाँ से डाउनलोड भी कर सकते हैं 

Related posts

मैजस्टिक मूँछें – सलिल वर्मा, उषा छाबड़ा, अनुराग शर्मा

Smart Indian

अरे दिल है तेरे पंजे में तो क्या हुआ….

Sajeev

फिल्मी चक्र समीर गोस्वामी के साथ || एपिसोड 17 || मन्ना डे

cgswar

Leave a Comment