Dil se Singer

पैप्पी और कदम थिरकाता ‘अजब गजब लव’

प्लेबैक वाणी – संगीत समीक्षा – अजब गजब लव 

निर्माता वाशु भगनानी के बेटे जैकी भगनानी नए जोश खरोश के साथ लौटे रहे हैं तेलुगु हिट फिल्म के रिमेक के साथ. फिल्म का नाम है अजब गजब लव, अलबम में संगीत है साजिद वाजिद का, और गीतकारों में हैं प्रिया पांचाल, कौसर मुनीर, और सुखजीत थांडी. आईये नज़र डालें अल्बम में संकलित ४ गीतों पर.
अल्बम की शुरुआत बहुत ही धमाकेदार तरीके से होती है. जबरदस्त रिदम के साथ उठता है गीतबूम बूम बूम. मिका सिंह की दमदार आवाज़ खूब जमती है गीत पर. बीट्स थिरकने पर मजबूर करने वाले हैं. प्रिया के शब्द गीत के अनुरूप ही हैं. निश्चित ही एक चार्ट बस्टर साबित होगा ये गीत.
पहले गीत में ही बढ़िया माहौल बनाने के बाद साजिद वाजिद अपने चिर परिचित रोमांटिक टोन में लौटते हैं गीत तू के साथ. मोहित चौहान की आवाज़ का पीछा करती  वोइलेन की स्वर लहरियाँ बहुत सुहाती है, धुन और आवाज़ की मधुरता के मुकाबले में शब्दों का चुनाव और बेहतर हो सकता था.
गिटार के सुरीले सुरों के खुलता है गीत सुन सोणिये, जिसे इरफ़ान और अंतरा मित्रा ने बहुत खूबसूरती से निभाया है. रियलिटी शो से निकली अंतरा को अब कुछ अच्छे गीत मिलने लगे हैं. कौसर मुनीर के शब्द अच्छे हैं. ऐसे गीत आप लंबी ड्राईव पर चलते हुए अपनी गाडी में आराम से सुन सकते हैं. बहुत बढ़िया साजिद वाजिद.
दविंदर सिंह की आवाज़ में नाच्दे पंजाबी एक सामान्य ढोल बीट का गाना है. अल्बम का शायद सबसे कमजोर गीत. कुल मिलाकर अजब गजब लव में कम गीत हैं मगर दिलचस्प हैं…रेडियो प्लेबैक दे रहा है अल्बम को ३.४ की रेटिंग.

एक सवाल  जैकी बगनानी अब तक कितनी फिल्मों में दिख चुके हैं, बताएँ अपनी टिप्पणियों में हमें….

Related posts

मिलिए ग़ज़ल गायकी की नई मिसाल रफ़ीक़ शेख से

Amit

"दासेएटन" (येसुदास) के हिन्दी गीतों की मिठास भी कुछ कम नहीं…

Amit

60 के दशक का "ट्विस्ट" एक बार फिर "लव आज कल" में…

Sajeev

Leave a Comment