Dil se Singer

चले जाना कि रात अभी बाकी है…

दूसरे सत्र के आठवें गीत का विश्वव्यापी उदघाटन आज

आठवीं पेशकश के रूप में हाज़िर है सत्र की दूसरी ग़ज़ल, “पहला सुर” में “ये ज़रूरी नही” ग़ज़ल गाकर और कविताओं का अपना स्वर देकर, रुपेश ऋषि, पहले ही एक जाना माना नाम बन चुके हैं युग्म के श्रोताओं के लिए. शायरा हैं एक बार फ़िर युग्म में बेहद सक्रिय शिवानी सिंह.

शिवानी मानती हैं, कि उनकी अपनी ग़ज़लों में ये ग़ज़ल उन्हें विशेषकर बहुत पसंद हैं, वहीँ रुपेश का भी कहना है -“शिवानी जी की ये ग़ज़ल मेरे लिए भी बहुत मायने रखती थी ,क्योंकि ये उनकी पसंदीदा ग़ज़ल थी और वो चाहती थी कि ये ग़ज़ल बहुत इत्मीनान के साथ गायी जाए, मुझे लगता है कि कुछ हद तक मैं, उनकी उम्मीद पर खरा उतर पाया हूँ, बाकी तो सुनने वाले ही बेहतर बता पाएंगे”.

तो आनंद लें इस ग़ज़ल का और अपने विचारों से हमें अवगत करायें.

इस ताज़ी ग़ज़ल को सुनने के लिए नीचे के प्लेयर पर क्लिक करें-

The team of “ye zaroori nahi” from “pahla sur” is back again with a bang. Rupesh Rishi is once again excellent here with his rendering as well as composition, While Shivani Singh‘s lyrical expressions give it a romantic feel, so friends, just enjoy this beautiful ghazal here and let us know what you feel about it, feel free to give your valuable suggestions as your comments.

To listen to this brand new ghazal, click on the player below-

ग़ज़ल के बोल –

चले जाना कि रात अभी बाकी है,
ठहर जाना हर बात अभी बाकी है.

जिंदगी मेरी जो बीती तो युहीं बीत गयी,

जिंदगी मेरी जो बीती तो युहीं बीत गयी,
मगर पल दो पल का, साथ अभी बाकी है.
ठहर जाना….

कैसे भुलाऊं मैं उन चंद बातों को,
बेताब दिन वो मेरे बैचैन रातों को….उन चंद बातों को…

बीते दिनों की, याद बहुत आती है.
ठहर जाना…

मेरे ख्यालों में तुम रोज आते हो,
पलकों से मेरी क्यों नींदें चुराते हो,

तुम्हे भी मेरी याद कभी आती है…
ठहर जाना….

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3 64Kbps MP3 Ogg Vorbis

SONG # 08, SEASON # 02, “CHALE JAANA”, OPENED ON 22/08/2008, AWAAZ HIND YUGM.
Music @ Hind Yugm, Where music is a passion.

Related posts

“गोरी हैं कलाइयाँ” — यही था उस साल का सर्वश्रेष्ठ गीत; जानिये कुछ बातें इस गीत से जुड़े…

PLAYBACK

राग केदार : SWARGOSHTHI – 277 : RAG KEDAR और विदुषी वीणा सहस्त्रबुद्धे को श्रद्धांजलि

कृष्णमोहन

पल पल दिल के पास तुम रहती हो….कुछ ऐसे ही पास रहते है कल्याणजी आनंदजी के स्वरबद्ध गीत

Sajeev

57 comments

Neelu August 22, 2008 at 4:56 am

Shiwani singh ji ki gazal wakaie haqiqat bayan karti hai…….
Aur Rupesh rishi ji ki gayaki ne use aur bhi sunder roop de diya hai..
Shiwani singh ji aue Rupesh rishi ji ko bahut bahut dhanyawaad.

Reply
Biswajeet August 22, 2008 at 5:10 am

itni sunder gaayaki aur shibani ji ki itni pyaari gazal. aap sabhi ko bahut bahut badhai.

Reply
seema gupta August 22, 2008 at 5:28 am

wah, bhut sunder lyrics, or karnpriye sangeet, bhut accha lga sun kr.

Regards

Reply
शैलेश भारतवासी August 22, 2008 at 6:01 am

शिवानी और रूपेश की जोड़ी की यह ग़ज़ल मुझे पिछले एल्बम 'पहला सुर' के ग़ज़ल 'ये ज़रूरी नहीं' से भी बढ़िया लगी है। बहुत मीठास है गायकी और संगीत दोनों में। मज़ा आ गया। बहुत-बहुत बधाई आवाज़

Reply
Anonymous August 22, 2008 at 6:02 am

very nice gazal

Reply
विश्व दीपक August 22, 2008 at 7:11 am

शिवानी जी और रूपेश जी की जोड़ी ने कमाल हीं कर दिया है। जीतने मीठे बोल हैं, उतना हीं मीठे एवं भावपूर्ण संगीत एवं स्वर हैं।

बधाई स्वीकारें।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

Reply
रंजना [रंजू भाटिया] August 22, 2008 at 9:19 am

बहुत सुंदर जी ..

Reply
Anonymous August 22, 2008 at 11:49 am

Bahut Bahut Sundar aap dono ko bhadhaai-Anu

Reply
Kamal N FRENDZ August 22, 2008 at 3:25 pm

thanxxxxx shiavni ji 4 this amazing ghazal
why dont u try to bollywood
u have a gr8 sense of simplicity
plz keep it up

Reply
Nugget August 22, 2008 at 5:46 pm

shivani ji aap ki ghazal sun kar man ko sakoon mila.Aisa laga mano yeh bol aap kay dil ki gehraiyon say niklay hain.humein aap ki aisi hi utkrisht rachnaoan ka intazar rahega.aap ki is kamyabi per bahut badhai ho-aarti sindhu

Reply
Manvinder August 22, 2008 at 6:13 pm

bahad madhur or meethe awaaj hai
jindagi jo meri beeti to ju hi beet gai
Manvinder

Reply
Manish Kumar August 22, 2008 at 7:25 pm

ग़ज़ल के हिसाब से संगीत और गायिकी दोनों पसंद आए। शुक्तिया इस प्रस्तुति के लिए

Reply
तपन शर्मा August 22, 2008 at 7:28 pm

ये ज़रूरी नहीं कि हर बात ज़ुबां से कह दें….:)
बहुत मजा आया रूपेश जी और शिवानी जी की ये गज़ल सुन कर…

Reply
सजीव सारथी August 23, 2008 at 5:41 am

रुपेश जी कि आवाज़ में वाकई जादू है, ग़ज़ल गायकी के लिए परफेक्ट, शिवानी जी आपकी ग़ज़ल बहुत ही प्यारी है, सीधे दिल से निकली हुई लगती है, सरल शब्द और मधुर संगीत का मिश्रण है ये ग़ज़ल, इस शानदार प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाईयाँ

Reply
श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’ August 23, 2008 at 6:39 am

This post has been removed by the author.

Reply
श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’ August 23, 2008 at 6:40 am

ठ्हर जाना कि ……

हेडसेट से कानोँ मेँ फूटते हुये मधुर स्वर और रूमानी अन्दाज के भावपूर्ण शब्द रूपेश जी और शिवानी जी की यह अभिनव प्रस्तुति ….. कुछ पलोँ को जीवंत करने मेँ सम्पूर्ण सक्षम है. शुभकामना

Reply
DHWANI August 23, 2008 at 7:02 am

shivani ji aaj ke jamane mein aisi sunder v madhur rachna bahot kam milti hai. aap ki is ghazal ko sunkar mann ki saari pareshaniya mano mit si gayi aur mere mann ko bahot sukoon mila. aap ko bahot badhai ho . main aap se aage bhi aesi hi rachnaon ki ummeed karti hoon.

Reply
ilesh August 23, 2008 at 7:25 am

Shivani ji dghalti raat me jab ise suna ham hamari purani yadon me kho gaya behatarin lafjo ka istmaal aur rupeh ji ki aawaz ne use aur bhi behtarin bana diya wah….

कैसे भुलाऊं मैं उन चंद बातों को,
बेताब दिन वो मेरे बैचैन रातों को….उन चंद बातों को…

बीते दिनों की, याद बहुत आती है.
ठहर जाना…

Reply
neelam August 23, 2008 at 7:49 am

kis khoobsoorati aur paakijagi ke saath gaaya hai aap ne, aapke ujjwal bhabisya ki kaamnaao ke saath

Reply
Pratap Kumar August 23, 2008 at 8:16 am

Shivaniji, ek dil ko chhoo lene wali ghazal hai aapki. Jitni baar bhi suni jaaye ek nayapan isme jhalkta hai.
कैसे भुलाऊं मैं उन चंद बातों को,
बेताब दिन वो मेरे बैचैन रातों को….उन चंद बातों को…

बीते दिनों की, याद बहुत आती है.
ठहर जाना…
In lines ko maine kai baar suna. vastav meek-ek shabad. sahej kar rakhne layak hai.
Vijay Sharma
Chennai-09281302261

Reply
Gaurav August 23, 2008 at 8:36 am

kya bol hai ….. mazaa aa gaya ….. kitne meethe bol hai shivani ji aur rupesh ji ki aawaz bhi bahut acchi hai ….. issi tarah aap likhti rahe …..

Reply
juhi August 23, 2008 at 9:10 am

shivani ji awesome !! kitna madhur sangeet hai . rupesh ji ki aawaaz ne to jaadu kar diya . sunkar mann ko sukoon mila aur baar baar sunne ko jee kara .gazal ke words bahut achche hai bahut bahut shubh kamnaye. hum asha karte hai ki aap aise hi likhte rahe.this is my .favourite gazal.wish u all the best.

Reply
srishti August 23, 2008 at 9:26 am

shivani ji u r great. mazaa aa gaya.sach mein dil ko choone wali gazal hai.amazing!!

Reply
prithviraj singh August 23, 2008 at 10:02 am

shivani ji jo kamal aawaj me h wo hi kamal likhne wale k hatho ka hai.dono ne kamal kar diya hai ……………dil ko chhu gayi ye gazal

Reply
Anonymous August 23, 2008 at 11:24 am

shivani ji bahut bahut badhai aise udgaar hain aapke maine socha nahin tha.bahut achche se vyakt kiya hai.en udgaaroo ko padhkar mann kho jaata hai aur tan doobh jaata hain, badhai ho us aawaaz ko jisne itni gehrai di .sunkar mann doobhta hi chala gaya aur mein kahin vicharoon mein kho gai.i wish u all the best keep it on……seema kataria

Reply
Janmejay August 23, 2008 at 11:32 am

NAMASKAAR!
BADHAI IS SUNDAR GAZAL KE LIE!
bahut sukun milta hai sun kar,itni madhur dhun hai,achhi gazal ban pari hai.sarahneey!

prayas jari rakhen taki aur bhi behtar kaam hota rahe.
shubh kamnayen!

dhanyawaad!

Reply
दीपाली August 23, 2008 at 12:10 pm

बहुत दिनों के बाद एक बहुत अच्छी ग़ज़ल सुनने को मिली है.
इस ग़ज़ल के बोल और आवाज़ दोनों ही श्रोता को दिल तक छुते है
शिवानीजी तथा रुपेश जी को बहुत बहुत धन्यवाद और बधाई

Reply
Ashutosh Pandey August 23, 2008 at 12:19 pm

bahut he khoobsurat lyrics mam… aur rupesh ji ki awaz ne ise aur khubsurat bana diya hai…
gazal ki ye line bahut he pasand aai
कैसे भुलाऊं मैं उन चंद बातों को,
बेताब दिन वो मेरे बैचैन रातों को….उन चंद बातों को…

बीते दिनों की, याद बहुत आती है.
ठहर जाना…
bahut khub…

Reply
Smart Indian - स्मार्ट इंडियन August 23, 2008 at 1:19 pm

अति सुंदर प्रस्तुति के लिए धन्यवाद! Keep it up!

Reply
anitakumar August 23, 2008 at 1:26 pm

very soothinh voice and music, overall very nice song

Reply
महाशक्ति August 23, 2008 at 3:05 pm

आपकी यह गज़ल बहुत अच्छी, सुन कर प्रसन्न हो गया है।

Reply
Nugget August 23, 2008 at 6:20 pm

This post has been removed by the author.

Reply
sandy August 23, 2008 at 6:30 pm

Avaz aur lavz kiski hai ye maya….,main to bas bandhta hi chala gaya. shivani ji aisi hi kuch aur rachnaen plz hamare saath share kare aur aapke is fan ko ummeed hai ke aap ke khazane mein aise hi bahot saare ratn chupe hai jinhe, mujhe wishwas hai ki aap aage bhi hamein aise hi soch aur khwab ka pegham deti rahengi. aap ka ek fan-sagitarian.

Reply
bhanu August 23, 2008 at 6:52 pm

कवी के दिल और कविता में वो रिश्ता होता है जो एक सचे भक्त और भगवान् का होता है ,मुझे आपकी इस ग़ज़ल में आपके दिल के भावों का स्पष्टीकरण नज़र आया है . आपकी इस ग़ज़ल में रुपेश जी की आवाज़ बहुत अच्छी लगी है तथा आपके शब्दों के इस्तेमाल से मैं बहुत प्रभावित हुआ हूँ . मैं आशा करता हूँ की आप अपनी ग़ज़ल के माध्यम से हमें अपनी दिल की बात बताने में आगे भी सफल होगी .

Reply
Anonymous August 24, 2008 at 6:23 am

Wah!!Shivaniji kya gazal likhi hai aapne.. Rupesh ji ne bhi apni gaayki mein kamaal kar dikhaya hai… Sangeet bahaut hee soothing hai..Aapse aage bhi aisi hee gazal ki apeksha rakhti hoon.. Meri taraf se aapko bahaut bahaut shubhkaamnayein.. Aaj se apki fan list mein mera naam bhi darz kar leejiye..
DEEPTI

Reply
Anonymous August 24, 2008 at 8:24 am

ache lyrics h
dil ke karib h aur awaz bhi adiya h
in all a gud attempt
no v gud

Reply
Anonymous August 24, 2008 at 5:35 pm

प्रिय मित्रों,
सर्वप्रथम तो आप लोगों से इतनी देरी से जुङने के लिये
क्षमाप्रार्थी हूँ| आप लोगों ने जिस ह्रदय के साथ इस प्रयास
को सराहा है,मेरे पास आपका आभार व्यक्त करने के लिये
शब्द नहीं हैं|हाँ,अगर आपको ये प्रयास पसन्द आया है तो
ये शिवानी जी के शब्दों का जादू है, जहाँ तक मेरी बात है
तो मै इतना ही कह सकता हूँ कि….

गर श्रोताओं के दिल मे प्यार ना होता
तो दुनियाँ मे कोई भी कलाकार ना होता

आपकी शुभकामनाओं से मेरा बहुत उत्साहवर्धन हुआ है,
प्रयास करूँगा कि भविष्य मे और भी श्रेष्ठ संगीत दे सकूँ|
आपका अपना
रूपेश ऋषि..+91 9811688685

Reply
Amit August 25, 2008 at 9:04 am

marvellous madam
how can u write and sing so much great.
are yaar tumne to kamal kar diya.
aap dono ki jugalbandi kafi achi thee.
ye tumahri fav. gazal me se thee jo aapne behtreen tareeke se gayee.
maine aapko pahli baar suna, bahut acha laga.
Best of luck for next gazals

your son & frnd
Amit Sharma

Reply
Mantra-Guru August 25, 2008 at 9:27 am

Shivaniji, ek dil ko chhoo lene wali ghazal hai aapki. Jitni baar bhi suni jaaye ek nayapan isme jhalkta hai.
कैसे भुलाऊं मैं उन चंद बातों को,
बेताब दिन वो मेरे बैचैन रातों को….उन चंद बातों को…

बीते दिनों की, याद बहुत आती है.
ठहर जाना…
In lines ko maine kai baar suna. vastav meek-ek shabad. sahej kar rakhne layak hai.
Vijay Sharma
Chennai-09281302261

Reply
shivani August 25, 2008 at 10:24 am

नमस्कार ,मैं सोच नही पा रही हूँ की आप सब का किन शब्दों में धनयवाद करूँ !मुझे बहुत खुशी है की आप सभी संगीत चप्रेमियों को मेरी ग़ज़ल पसंद आई !सच मानिए ,मैं इस ग़ज़ल के रिलीज़ होने से पहले बहुत ही नर्वस थी !अब आप सब का प्यार ,सहयोग और शुभकामनायें मुझे प्रेरित करने के लिए काफ़ी हैं….मैं एक गृहणी हूँ जो कभी कभी कागज़ पर लिख लेती हूँ और संगीत की मुझको बिल्कुल जानकारी नही है !हाँ बस ये कुछ शब्द हैं जो कभी कभी मेरे ज़हन में आते हैं और मैं उनको कागज़ पर उतार देती हूँ !आप सबने मुझे इतना सम्मान दिया ,मैं उसके लिए बहुत बहुत आभारी हूँ !कोई भी काम बिना टीम वर्क के अधूरा होता है !मेरे शब्द तो एक बीज के समान थे उनको रुपेश जी ने हवा और पानी के रूप में अपनी आवाज़ और संगीत दे कर एक सुंदर फूल खिलाया और सजीव जी न एक कुशल माली की तरह उसको एक आवाज़ की दुनिया में आपके सामने सजाया ,और इस फूल की सुगंध को दूर दूर तक महकाया !ये रुपेश जी और सजीव जी की महनत का फल है जो आज आपके सामने है !मैं तहे दिल से रुपेश जी ,सजीव जी और आवाज़ की पूरी टीम के साथ साथ आप सब का धन्यवाद करती हूँ और आशा करती हूँ की भविष्य में भी आपकी कसौटी पर खरी उतरूंगी !इतना आदर ,स्नेह ,प्यार और सहयोग के लिए में आप सबकी शुक्र guzaar हूँ !धन्यवाद

Reply
पारुल "पुखराज" August 25, 2008 at 3:36 pm

आवाज़ की अब तक की सबसे बेहतरीन प्रस्तुति

Reply
Anonymous August 26, 2008 at 6:54 am

chale jana ghajal bahut hi achchhi lagi.hindyugm ke sare member ko salam karta hun jinke prayas se hindi ka unnati ho rahi he .THANKS A LOT

sunilkumarsonus@yahoo.com

Reply
kunal August 26, 2008 at 3:07 pm

wahh!!!shivani ji kya gazal pesh ki hai…maine pehli baar sachhe dil se koi gazal suni hai aur sach mano CHALE JAANE ko ji nahi kar raha hai…apke har shabd apki tarah hi, bade hi saaf aur khoobsurat hai..aur jis sundarta se rupesh ji ne gazal gayi hai uski jitni tareef ki jaaye utni kam hai…koi ho ya na ho i'm really inspired shivani ji….bas apse yahi asha hai ki aur bhi achi gazal sunne ko mile…meri taraf se apko aur Pahla Sur ko shubkamnaye….

Reply